123ArticleOnline Logo
Welcome to 123ArticleOnline.com!
ALL >> Movie >> View Article

One Star Sunil-dutt In Movie Yaade

By Author: Live India
Total Articles: 2

आप किसी फिल्म को कैसे याद रखते हैं? जाहिर है आपका जवाब होगा-नाम से! हालांकि कुछ फ़िल्में अपने अनूठे प्लॉट या ट्रीटमेंट के लिए भी याद रह जाती हैं. कुछ ऐसी फ़िल्में भी होती हैं जो कालातीत होती हैं. उनकी विषयवस्तु और फिल्मांकन समय से कहीं परे होता है यानि वह अपने दौर से कहीं आगे की फिल्म होती हैं. आज के दौर में जब भव्यता और कई-कई सितारों से सजी फ़िल्में चलन बन चुकी हैं.… जब किन्हीं फिल्मों के एक-एक गाने में दिग्गज सितारों की भीड़ नजर आती हो, तो क्या आप किसी ऐसी फिल्म की कल्पना कर सकते हैं, जिसमें महज एक कलाकार हो! यही नहीं, उस फिल्म को फिल्मफेयर पुरस्कार से भी नवाजा गया हो! थोड़ा मुश्किल सा लगता है, खासकर हालिया दिनों में जब एक हिंदी फिल्म में औसतन 600 कलाकार अभिनय करते हों. इनमें फिल्म के प्रमुख कलाकारों समेत चरित्र पात्र और पल दो पल के लिए आने वाले एक्स्ट्रा कलाकार तक शामिल होते हैं!

खैर, बात 1964 की है. दत्त साहेब की तीन फिल्में इस साल प्रदर्शित हुई थीं. 'बेटी-बेटे', 'यादें' और 'गज़ल'. इनमें से 'बेटी-बेटे' का निर्देशन एल वी प्रसाद ने किया था. यह फिल्म 'गोरी चलो न हंस की चाल', 'आजकल में ढल गया दिन' और 'राधिका तूने बंसरी चुराई' जैसे गानों के लिए आज भी हिंदी फिल्म प्रेमियों की यादों में पैबस्त है. इसी तरह वेद मदन द्वारा निर्देशित फिल्म 'गज़ल' दत्त साहेब और मीना कुमारी के अभिनय समेत 'रंग और नूर की बारात', 'नग़मा ओ शेर की सौगात' समेत 'उनसे नजरें मिलीं' और 'मेरे मेहबूब कहीं और मिलाकर मुझसे' गानों के लिए याद रखी जाती है. यह अलग बात है कि अधिकांश सिने प्रेमियों को 'यादें' फिल्म की याद भी न होगी. यह वह फिल्म थी जिसने हिंदी फिल्म इतिहास में अपनी अमिट छाप छोड़ी. अख्तर उल ईमान लिखित इस फिल्म का निर्देशन दत्त साहेब ने खुद किया था.

कुल 113 मिनट की अवधि वाली इस फिल्म में दत्त साहेब एकमात्र कलाकार थे. फिल्म में उनके पात्र का नाम था अनिल, जो अपने आप से बात किया करता था. उनके अलावा इस पूरी फिल्म में और कोई कलाकार नहीं था. कहने को नर्गिस का नाम भी लिया जा सकता है, लेकिन वह फिल्म के अंतिम दृश्यों में महज़ एक परछाईं की तरह प्रकट होती हैं और पलक झपकते गायब हो जाती हैं. फिल्म का एकमात्र और केंद्रीय पात्र अनिल एक दिन घर लौटता है. और, घर पर अपनी पत्नी और बच्चे को नहीं पाता है. वह मान लेता है कि उसकी पत्नी और बच्चा उसे छोड़ कर चले गए हैं. उनके बगैर वह जिंदगी गुजारने के नाम से ही घबरा जाता है. उसे उनके साथ बिताए एक-एक पल याद आते हैं. इन बीते पलों को वह खुद से बातें करते हुए याद करता है. अपनी गलतियों के बारे में सोच-सोच कर पछताता है.

जरा सोच कर देखिए अपने आप से बात करते दत्त साहेब का अभिनय कितनी गहराई लिए होगा. ऐसी गहराई जिसने किसी और कलाकार के न होने की कमी का अहसास तक नहीं होने दिया. हालांकि इसके लिए कुछ फिल्म समालोचक वसंत देसाई के पार्श्व संगीत को भी ससम्मान याद करते हैं. वसंत दा के संगीत निर्देशन में लता जी द्वारा गाया गाना 'देखा है सपना कोई' फिल्म के कथानक में जादुई अहसास जगाने का काम करता है. ओज से परिपूर्ण संवाद अदायगी ने दत्त साहेब के किरदार के विभिन्न आयामों को संपूर्णता प्रदान की थी.

कैमरे के सामने सिर्फ एक कलाकार की उपस्थिति में फिल्माई गई 'यादें' हिंदी सिनेमा इतिहास की पहली और विश्व सिनेमा इतिहास की कुछ अनूठी फिल्मों में से एक थी. अपनी इसी खूबी की वजह से 'यादें' को गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में जगह दी गई और श्रेणी थी 'कथा फिल्म में सबसे कम अभिनेता'. यह तो था विदेशी सम्मान, भारत में इस फिल्म को फिल्मफेयर पुरस्कार से नवाजा गया. एस रामचन्द्र को श्वेत-श्याम श्रेणी में सर्वश्रेष्ठ सिनेमैटोग्राफर तो एसा एम सूरतवाला को सर्वश्रेष्ठ ध्वनि के लिए सम्मानित किया गया.

बाद के दौर में फिल्मों के साथ कई प्रयोग हुए. मसलन धमाकेदार गीत-संगीत के दौर में मूक फिल्म, सिंक साउंड, दो-दो मध्यांतर वाली फिल्म, दर्जनों गानों वाली फिल्म और एक-एक गाने में सितारों की भीड़ दिखाती फिल्म. इससे एक और बात याद आई. सबसे पहले एक गाने में सितारों की भीड़ किस फिल्म में दिखाई दी थी? जी नहीं, शाहरुख खान की 'ओम शांति ओम' नहीं, इसका ज़िक्र बाद मे. याद कीजिए 1981 में प्रदर्शित मनमोहन देसाई की फिल्म 'नसीब' जिसका एक गाना था 'जॉन जानी जनार्दन' जो अमिताभ बच्चन पर फिल्माया गया था. इस गाने में राज कपूर, धर्मेन्द्र, राजेश खन्ना, माला सिन्हा, वहीदा रहमान समेत लगभग दर्जन भर दिग्गज सितारों ने अपनी मौजूदगी दर्ज कराई थी. सिने प्रेमियों के लिए अपने पसंदीदा कलाकारों को एक साथ देखने का वह एक यादगार लम्हा था.

लेकिन अघोषित रिकॉर्ड बनाने का काम किया फराह खान निर्देशित 2007 में प्रदर्शित फिल्म 'ओम शांति ओम' ने. इसके गाने 'दीवानगी-दीवानगी' में जितेंद्र, धर्मेन्द्र, मिथुन, गोविंदा, सुनील, सलमान, सैफ, रेखा, शबाना, तब्बू, करिश्मा, काजोल, जूही, उर्मिला, प्रीति,प्रियंका समेत 30 चोटी के सितारें परदे पर एक साथ अवतरित हुए. सिर्फ गाने में ही नहीं फिल्म की कहानी में भी अमिताभ बच्चन, अक्षय, ऋतिक, करण जौहर, अभिषेक, अमीषा, बिपाशा जैसे कई अन्य दिग्गज कलाकार दिखे थे. हालांकि इस गाने में भरत कुमार यानि मनोज कुमार से जुड़ा विवाद भी उठा. खैर...

… 'नसीब' फिल्म के 'जॉन जानी जनार्दन' गाने से इसी नाम से बनी एक फिल्म की चर्चा भी हो जाए. टी रामा राव ने 1984 में 'जॉन जानी जनार्दन' फिल्म बनाई थी, जिसमें रजनीकांत तिहरी भूमिका में थे. यह 1982 में प्रदर्शित तमिल फिल्म 'मुँदरू मुगम' की हिंदी रीमेक थी. इस तमिल फिल्म के नायक भी रजनीकांत ही थे. रति अग्निहोत्री और पूनम ढिल्लो अभिनीत 'जॉन जानी जनार्दन' फिल्म बॉक्स ऑफिस पर हिट रही. अगर यह कहा जाए कि किसी कलाकार की तिहरी भूमिका वाली यह पहली हिट फिल्म थी, तो कतई गलत नहीं होगा.

लाइव इंडिया डिजिटल अनुभवी और युवा पत्रकारों द्वारा 24X7 अपडेट किया जाता है। लाइव इंडिया डिजिटल मैन और मशीन की ताकत के बूते देश की राजधानी से लेकर सुदूर ग्रामीण इलाकों तक की खबर देता है।

Total Views: 322Word Count: 998See All articles From Author

Movie Articles

1. Watch How It Ends (2018) Online Free
Author: Putlocker Movies

2. Dangers Of Renting A Green Screen In Los Angeles
Author: Green Screen Los Angeles

3. Choose The Commercial Production Company Who Have The Winning Elements
Author: Sinema Films

4. Free Remove Audio From Video
Author: Vanessa

5. Hera Pheri - Why It Is An All Time Favorite Comedy Movie Of The Audience?
Author: Mohit Kapoor

6. What Makes Daag: The Fire A Super Hit Movie?
Author: MohitKapoor

7. Agneepath Versus Agneepath 2: Which Was The Best?
Author: Mohit Kapoor

8. The 75th Golden Globe Award Winners 2018 List - Xtrascoop
Author: xtra scoop

9. Productions At Multai Studios
Author: priya

10. Make Your Wedding Memorable: San Francisco City Hall Wedding Photographer
Author: Michael

11. Watch Movies Online Free
Author: kamovies

12. Amazon Obhijaan Hd Movie Overview And Download
Author: Fatima Malik

13. 11 Years And Why People Still Love Baap Numberi Beta Dus Numbri
Author: Mohit Kapoor

14. 2016, Decent Year Of Silver Screen
Author: Andy Rubin

15. A Sneak Peek Into 'shaadi Mein Zaroor Aana'
Author: Mohit Kapoor

Login To Account
Login Email:
Password:
Forgot Password?
New User?
Sign Up Newsletter
Email Address: