123ArticleOnline Logo
Welcome to 123ArticleOnline.com!
ALL >> Health >> View Article

आयुर्वेद के माध्यम से पीठ दर्द और उनके घरेलू उपचार

By Author: Dr Nitesh Khonde
Total Articles: 9

‘कमर टुटना’ या पीठ दर्द Back Pain यह अब केवल मुहावरा न रहकर एक बडे पैमाने पर देखी जानेवाली बिमरी हो गयी है। यह दर्द केवल कमर तक सिमित नही है। आज की जीवनशैली, बैठ कर काम करने की पद्धती के कारण यह सहज रुप से दिखाई देनेवाली बिमारी हो गयी है। एक सर्वे से पता चला हैं कि ६० % से ७५% लोग पीठ दर्द Back Pain के शिकार है। और यह काफी गंभीर है। जीवन की भागदौड, तनावपूर्ण जीवनशैली, नि:सत्व आहार, शारिरीक व मानसिक तनाव , नियमित तौर पे कंप्यूटर के सामने काम के कारण पीठ दर्द Back Pain काफी गंभीर हो गया है।

कोई वजनदार वस्तु उठा लेने से, अस्थि क्षय या कैल्शियम की कमी के कारण रीढ की हड्डी कमजोर होना, बचपन मे ही स्कुल बैग का पीठ पर भार, ज्यादा समय वाहानोसे घूमना , लगातार एक जगह बैठना, कुर्सी मे अधिकाधिक समय बैठना, कम्प्युटर पर ज्यादा समय तक काम करना, किसी भी वाहन से यात्रा करते समय रीढ की हड्डी को क्षति पहुँचना, पेट साफ न रहना, रात मे जागरण, चिंता, शोक, क्रोध इ. तथा उचित आहार-रस का सेवन न करने के कारण रीढ की हड्डी कमजोर होना, व्यायाम न करना, कुर्सी या अन्य जगह बैठने की शरीरस्थिती सही न होना इन कारणों से पीठ दर्द – Back Pain या कमर दर्द होता है।

सिर से निकलने वाली हजारों तंत्रिकाएं ( Nerves ) रीढ की हड्डी के छेद से होकर शरीर मे फैलती है ( Spinal Cord )। यही तंत्रिकाएं शरीर को संवेदना प्रदान कर सिर तक पहुँचाती है। अर्थात संपूर्ण शरीर को अनुभूति देने का काम रीढ की हड्डी से होता है।

इस के अलावा रीढ की हड्डी ( Vertebral Column ) संपूर्ण शरीर का आधार है। हमारा शरीर इसी के सहारे खडा है। इस के कारण पीठ दर्द Back Pain या कमर दर्द बहुत गंभीर हो सकता है। पीठ दर्द Back Pain कितना गंभीर हो सकता है यह आपको मेरे यहां आनेवाले रोगियों से पता चल सकता है। कई केसेस में से एक केस आपके सम्मुख प्रस्तुत है।

पीठ दर्द से पीडित, लगभग एक चालीस वर्ष की आयु के एक व्यक्ति मेरे पास आए थे। उनका पीठ दर्द Back Pain इतना बढा हुआ था कि उनके लिए खडा रहना या बैठना, चलना बहुत मुश्किल था। उन्हे कार से उठाकर क्लिनिक मे लाया गया था। जांच के लिए वे लेट भी नही पा रहे थे।

उनकी रिढ की हड्डी मे काम्प्रेशन था, कमर मे भी बहुत दर्द था, झुनझुनी थी ( Tingling Sensation ) , पैरों मे अकडन ( Stiffness ) थी। जांच करने पर पाया गया कि रीढ की हड्डी के काम्प्रेशन के साथ साथ हड्डी भी स्वस्थान पर नही थी। एमआरआय करने पर डिस्क भी जगह से हिल गयी है यह दिखाई दिया ( Slipped Disc )। पेंट के कारखाने मे काम करनेवाले इस व्यक्ति को नोकरी पर जाना भी असंभव हो गया था। उन्होने एक लम्बी छुट्टी ले रखी थी। बहोत एलॉपथी दवाइया ली थी , सुजाव अनुसार फिजियोथेरेपी भी लगभग २ महीने तक की थी , ट्रैक्शन भी दिया था , लेकिन फिर भी आराम न पड़ने की वजह से सर्जरी करने की सलाह दि थी , लेकिन उनक सगे संबधियो में से एक की सर्जरी लम्बर L४-L५ और l5 – S1 में लमेनेक्टोमी की वजह से उनके यूरिन -पेशाब और टट्टी के सेंसेशन चले गए थे और उसकी वजह से वह बहोत ज्यादा सर्जरी से दर गए थे , तभी उन्हें पारिजातक आयुर्वेदा और मेरे बारे में पता चला.

यह पीठ दर्द Back Pain ठिक करने के लिए कम से कम डेढ महिने का उपचार आवश्यक होगा इसकी मैने उन्हे कल्पना दी। पहले सप्ताह मे साधा मसाज, अभ्यंगम और पोटली मसाज किया। मसाज करने हेतु नाडी के अनुसार विशिष्ट परिणामकारक तेल का प्रयोग किया गया। साथ ही नस्यम और बस्ती क्रिया भी की गयी। नस्यम के कारण तेल सिर मे जाकर विष द्रव्य बाहर पडते है। रीढ की हड्डी को स्थिरता व बल प्राप्त होता है। बस्ती से ‘वात’ कम होता है, इस कारण पीठ दर्द Back Pain भी कम होता है। हड्डीयां मजबूत होती है तथा शरीर के विष द्रव्य पेट से बाहर निकलते है। पहले ही सप्ताह मे उस व्यक्ति के स्वास्थ्य मे २०% सुधार देखा गया।

Refferences: Http://parijatak.com.

Author name: Dr Nitesh Khonde

Date: 18/05/2018

More About the Author

Parijatak is a leading Ayurveda Treatment Centre and a wellness center in Nagpur. It boasts with a holistic vision of offering the patients with the best and authentic healthcare services with classical Ayurveda. It is among the pioneer and well-established group, which is an array of competitive healthcare professional and innovative service providers of Classical Ayurvedic Health services along with the famous Panchakarma therapies from Kerala. The known clinics, Parijatak offers quality professional HealthCare treatment options and competitive services. It is a home to one of the top healthcare experts who has been serving for generations. The approach at Parijatak is to offer profound and deep healing effects returning back the same quality of life that you lived all these years.

Total Views: 69Word Count: 693See All articles From Author

Health Articles

1. Itchy Manhood? Use Shea Butter And Vitamin E
Author: John Dugan

2. Porcelain Veneers: What Are They And Why You Might Need Them
Author: romyfernandis12

3. Dental Professionals – Do You Need To Have A Trusting Relationship
Author: romyfernandis12

4. Why You Will Need Emergency Dental Care
Author: romyfernandis12

5. Things To Remember When Choosing The Best Dental Professional For Your Loved Ones
Author: romyfernandis12

6. The Things To Reflect On Before Selecting A Dental Professional That Can Meet All Your Requirements
Author: romyfernandis12

7. Don't Fear The Dentist - Beating Your Dental Stress
Author: romyfernandis12

8. Indications Of A Bad Dentist
Author: romyfernandis12

9. Best Tips To Choosing A Family Dental Expert
Author: romyfernandis12

10. Regular Dental Cleaning - Why It Is Necessary
Author: romyfernandis12

11. Top Five Reasons To Truly Have Periodic Dental Cleaning Done
Author: romyfernandis12

12. Get Emergency Medical Support By Panchmukhi Air Ambulance Service In Mumbai
Author: Dr Mukesh Kumar

13. Why You May Consider Dental Dentures
Author: romyfernandis12

14. Great Guidance For Denture Users
Author: romyfernandis12

15. Teeth Extraction And Why It Is Important
Author: romyfernandis12

Login To Account
Login Email:
Password:
Forgot Password?
New User?
Sign Up Newsletter
Email Address: